हमारा आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड

रिपोर्ट- राम शंकर जायसवाल

हमारा आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड

राम शंकर जायसवाल द्वारा (उत्कर्ष धारा 24 ) |

आयुष्मान भारत योजना 2021

इस योजना को हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा वर्ष 2018 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य संरक्षण मिशन के अंतर्गत  शुरू की गयी है | जन आरोग्य योजना 2021 के अंतर्गत देश के आर्थिक रूप से कमज़ोर परिवारों को 5 लाख रूपये तक का स्वास्थ्य बीमा केंद्र सरकार की तरफ से प्रदान किया जा रहा है जिससे लोग  अपनी बीमारी का अस्पतालों में 5 लाख रूपये तक का मुफ्त इलाज करवा सकते है यह योजना देश सबसे बड़ी स्वास्थ्य सुरक्षा योजना है जिससे भारत देश को स्वस्थ बनाने में सहायता मिलेगी |

एक ऐसा कार्ड है जिसकी सहायता से देश का कोई भी व्यक्ति आयुष्मान भारत योजना में चुने गए सरकारी और निजी हॉस्पिटलों में अपना 5 लाख रूपये तक का मुफ्त इलाज करवा सकते है | यह गोल्डन कार्ड उन गरीब लोगो को मिलेगा जो आयुषमान भारत योजना के लाभार्थी होंगे | भारत सरकार द्वारा आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रकिया को शुरू किया जा चूका है और कोई भी व्यक्ति जन आरोग्य योजना के अंतर्गत आवेदन करने के बाद स्वर्ण कार्ड को डाउनलोड भी कर सकते है या इसका प्रिंट भी निकलवा  सकते है |आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड देश के हर गरीब लोगो को लाभ पहुंचाने के लिए उपलब्ध कराये जा रहे है यह स्वर्ण कार्ड केवल उन लोगो को मिलेंगे जिनका नाम आयुष्मान भारत लाभार्थी सूची में आएगा | देश के जो लोग इच्छुक लाभार्थी अपना गोल्डन कार्ड बनवाना चाहते है तो वह बड़ी ही आसानी वह अपने नज़दीकी जन सेवा केंद्र में जाकर आवेदन कर सकते है और वही से ही जन आरोग्य गोल्डन कार्ड भी बनवा सकते है | प्यारे दोस्तों आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से इस योजना से जुडी सभी जानकारी जैसे आप  किस प्रकार स्वर्ण कार्ड बनवा सकते है ,लाभ आदि प्रदान करने जा रहे है अतःहमारे इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े और लाभ उठाये |जम्मू कश्मीर में पिछले 6 महीने में लगभग 19 लाख आयुष्मान कार्ड बनाए गए हैं। जम्मू कश्मीर अब देश के उन 5 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में शामिल हो गया है जिनमें सबसे अधिक आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड बनाए गए हैं। इस बात की जानकारी भारत सरकार की नेशनल हेल्थ अथॉरिटी के माध्यम से प्रदान की गई है। इस योजना को 26 दिसंबर 2020 को हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा जम्मू कश्मीर में प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना सेहत के नाम से आरंभ किया गया था। इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक परिवार को ₹500000 का हेल्थ इंश्योरेंस प्रदान किया जाता है। वह सभी लाभ इस योजना के माध्यम से प्रदान किए जाएंगे जो आयुष्मान भारत योजना के माध्यम से प्रदान किए जाते हैं।इस योजना का लाभ जम्मू कश्मीर के सभी नागरिक उठा सकते हैं चाहे वह सरकारी नौकर हो या पेंशनर हो। अस्पताल में भर्ती होने के 3 दिन पहले एवं 15 दिन बाद तक के खर्च का प्रावधान इस योजना के अंतर्गत निर्धारित किया गया है।
Ayushman Bharat Arogya Card Yojana के लाभार्थी देश के 24000 पंजीकृत अस्पतालों में से किसी भी अस्पताल में अपना इलाज करवा सकते हैं। जम्मू-कश्मीर में लगभग 226 पंजीकृत अस्पताल है। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल द्वारा इस योजना की निगरानी की जाती है।
इस योजना का लाभ सभी नागरिकों तक पहुंचाने के लिए गांव-गांव आयुष्मान अभियान आरंभ किया गया है। इसके अलावा कई जगहों पर कैंप का भी आयोजन किया जाता है। इन कैंप का सहयोग पंचायती राज संस्थानों के प्रतिनिधि द्वारा भी किया जाता है।
आपके द्वार आयुष्मान अभियान के अंतर्गत किया गया 9 लाख लाभार्थियों का सत्यापन

1 फरवरी 2021 से आपके द्वार आयुष्मान अभियान आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत संचालित किया जा रहा है। इस अभियान के अंतर्गत ग्रामीण एवं पिछड़े हिस्सों में रहने वाले लाभार्थियों को आयुष्मान योजना की जानकारी प्रदान की जा रही है। इसी के साथ उन्हें इस योजना के अंतर्गत आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए प्रेरित भी किया जा रहा है। इस समय यह अभियान पंजाब, जम्मू-कश्मीर, हरियाणा, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार, उत्तराखंड तथा अन्य केंद्र शासित प्रदेशों में संचालित किया जा रहा है। इस अभियान के अंतर्गत लाभार्थियों का सत्यापन भी किया जाता है। जिसके पश्चात उनका गोल्डन कार्ड बनवाने की प्रक्रिया आरंभ कर दी जाती है। लाभार्थी द्वारा गोल्डन कार्ड सीएससी केंद्र और यूटीआईआईटीएसएल केंद्र से भी निशुल्क प्राप्त किया जा सकता है।

इस अभियान के अंतर्गत 25 मार्च 2021 को 9.42 लाख आयुष्मान लाभार्थियों का सत्यापन किया गया है। यह संख्या एक ऐतिहासिक संख्या बन गई है। केवल छत्तीसगढ़ से ही 6 लाख से ज्यादा लाभार्थियों का सत्यापन किया गया है। आपके द्वार आयुष्मान अभियान के अंतर्गत पहली बार एक दिन में इतनी बड़ी संख्या में लाभार्थियों का सत्यापन किया गया है।
जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं आयुष्मान भारत योजना सरकार द्वारा 2017 में लांच की गई थी। इस योजना के अंतर्गत लाभार्थियों को ₹500000 तक का हेल्थ इंश्योरेंस कवर प्रदान किया जाता है। इस योजना का लाभ लगभग 1 करोड़ 63 लाख से ज्यादा लाभार्थी उठा रहे हैं। आयुष्मान भारत कार्ड के माध्यम से लाभार्थी किसी भी निजी अस्पताल में जाकर अपना इलाज करवा सकते हैं।

इस योजना के अंतर्गत भारत सरकार द्वारा पात्रता कार्ड को फ्री कर दिया है। जिसके लिए ₹30 शुल्क का भुगतान करना पड़ता था। इस फैसले से गरीब परिवारों को काफी राहत मिलेगी। आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थी पात्रता कार्ड बनवाने के लिए सामान्य सेवा केंद्र से संपर्क करते थे और ग्रामीण स्तर के ऑपरेटर को ₹30 का भुगतान करते थे।
जिसके बाद उन्हें कार्ड प्राप्त होता था। लेकिन अब यह कार्ड प्राप्त करना पूरी तरह से फ्री है। लेकिन यदि आपको डुप्लीकेट कार्ड बनवाना है या आपको कार्ड को दोबारा से प्रिंट करना है तो आपको ₹15 का भुगतान करना होगा। यह कार्ड लाभार्थियों को बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन के बाद प्रदान किया जाएगा।

एनएचए का सीएससी से समझौता

नेशनल हेल्थ अथॉरिटी ने सीएससी के साथ समझौता किया है। जिसके अंतर्गत यह तय किया गया है कि पहली बार आयुष्मान कार्ड जारी होने पर नेशनल हेल्थ अथॉरिटी सीएससी को ₹20 का भुगतान करेगी। जिससे कि सिस्टम को और बेहतर बनाया जा सके। इस समझौते का एक उद्देश्य यह भी है कि इस योजना के अंतर्गत पीवीसी आयुष्मान कार्ड तैयार किया जा सके। आपको बता दें कि आयुष्मान भारत योजना का लाभ लेने के लिए पीवीसी कार्ड बनवाना अनिवार्य नहीं है। जिन लाभार्थियों के पास पुराने कार्ड है उन्हें इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा। पीवीसी कार्ड बनवाने का एक उद्देश्य यह है कि इसके माध्यम से अधिकारियों को लाभार्थी की पहचान करने में आसानी होती है।

देश के गरीब लोग जो आर्थिक रूप से कमज़ोर होने के कारण अपनी बीमारी का इलाज नहीं करवा पाते और अपनी बीमारी से  जूझते रहते है उन लोगो के लिए भारत सरकार ने सभी गरीब लोगो के  आयुष्मान भारत Golden Card 2021 बनाने के आदेश दिए है इस स्वर्ण कार्ड के ज़रिये वह अपनी बड़ी से बड़ी बीमारी का इलाज मुफ्त में करा सकते है उन लोगो को सरकार 5 लाख रूप तक का स्वास्थ्य बीमा प्रदान कर रही है | इस योजना के तहत लोग बड़ी ही आसानी  से अपना गोल्डन कार्ड प्राप्त कर सकते है | आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड देश के हर ग्रामीण और शहरी क्षेत्रो में बनाये जा रहे है जिन लोगो के अभी तक स्वर्ण कार्ड नहीं बनवाये है वह जल्द से जल्द बनवा ले |

आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड (PMJAY) का उद्देश्य
इस PMJAY गोल्डन कार्ड देश को उपलब्ध करवाने का सरकार का उद्देश्य देश के हर गरीबी रेख से नीचे आने वाले परिवारों को 5 लाख रूपये तक का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध करना और उनकी आर्थिक रूप से मदद करना | जैसे कि आप लोग जानते है आज भी देश बहुत से लोग किसी न किसी बीमारी से ग्रसित है और उनके पास अपना इलाज करवाने के लिए पैसे नहीं होते इन सभी परेशानियो के देखते हुए केंद्र सरकार ने आयुष्मान भारत योजना को शुरू किया है जिससे किसी  भी गरीब आदमी को बीमारी से बचाया जा सके |इस योजना के तहत सालाना  देश के लगभग  10 करोड़ से अधिक गरीब परिवारों को स्वास्थ्य बीमा मिल रहा है |